Wednesday 23 September 2009

आज दर्पण साह "दर्शन" का जन्म-दिन हैं ................ और मेरी कल्पना का बड़ा दिन हैं ............दिन और रात बराबर ............23 september

मिट्टी के दीपक में तारों का सजना ,
धरती के ख्वाबों का बादल बन उड़ना ,
हवाओं में आंधी की ताकत का होना ,
तूफानों का मेरे घर में आकर के रुकना ,
आगन में तुलसी का पौधा लगा हैं ,
मेरी माँ का हर रोज़ सज़दे में रहना ,
सुबह-शाम मोहोबत्त का कलमा यूँ पढना ,
मेरे घर की दीवारे जड़वत नहीं हैं ,
वो हिलती हैं लेकिन गिरती नहीं हैं ,
टकरा कर मुझसे एक दीवार बोली -तूफ़ान से कह दो वो आये संभल कर ,
टूटे हैं सपने कई बार लेकिन, आँखों में आँसूं ठहरते नहीं हैं ,
मोहोबत्त की मर्जी हैं काँटों पर चलना ,
वफाओं का दिल में अहसास लेकर ,
कई दोस्त मिलते हैं ,मिलकर बिछड़ते ,मिलना-बिछड़ना वफ़ा के किनारे ,
वफ़ा एक नदी हैं जो बहती ही जाती ,
कोई दोस्त आता हैं अपना सा बनकर सज़दे में मैं हूँ और कलम की मोहोबत्त ,
कागज़ पर चलती हैं अहसास बनकर ,
दिल में उतरती हैं कोई ख्वाब बनकर ,..................................

और आज मेरे दोस्त दर्पण का जन्म दिन हैं ................
ख्वाबों की दुनिया में हकीक़त हैं "दर्शन", 
हम सब जिसे कहते हैं दर्पण साह "दर्शन".............  



 सलाम दोस्त मैं रूठ ही गया होता तेरे अचानक से 23 september  ka equinox  बता देने पर ....................पर वफ़ा की नदी में बहकर पहुँच रह हूँ  प्राची के पार ......................निसंदेह हर स्वस्थ्य रचना शील समाज को आलोचना की आवशकता होती ही हैं ...............इसी क्रम मैं मैं चाहूँगा तुम्हारा आलोचक भी बनूँ ,...........................सारथी को अचानक से बताओगे कि आज 23 september  हैं तो रथ थोडा बहुत हलचल करेगा  ही हलाकि होगा कुछ भी नहीं मैंने कहा न ,मेरे घर की दीवारे हिलती हैं लेकिन ढहती नहीं ...............मोहोबत्त,मित्रता ...........कभी ढह भी नहीं सकती ................... ढह गयी तो कुछ था ही नहीं .............ढकोसला था .........और मित्र मैं  ढकोसला ,नहीं तुम्हारा मित्र  होना चाहता हूँ .................मुंशी प्रेम चन्द्र कह गए हैं - प्रेम गहरा होता हैं ,मित्रता और भी गहरी ......................इसीलिए कहते नहीं हैं ?.............. माँ-बाप बेटी-बेटे ...............को सिर्फ़ बेटा बेटी माँ बाप ही नहीं दोस्त भी होना चाहिय ................दांपत्य तो बिना मित्रता के ढकोसला ही हैं  ......मित्रता तो इंसानों का विशेषाधिकार हैं ............ .......सो जन्म दिन के साथ मित्रता मुबारक ..............

20 comments:

  1. शाह जी को बधाई व शुभकामनाएँ

    यह अवसर यहाँ यहाँ चिन्हित कर लिया गया है किन्तु Belated की श्रेणी में आ जाने के कारण माहांत में उल्लेख किया जाएगा।

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  2. सबसे पहले दर्पण शाह जी को ढेरो बधाई

    दूसरी ऐसी दोस्ती सबको नसीब होती ........

    आपकी दोस्ती ऐसे ही बरकरार रहे.....
    आगन में तुलसी का पौधा लगा हैं ,
    मेरी माँ का हर रोज़ सज़दे में रहना ,
    सुबह-शाम मोहोबत्त का कलमा यूँ पढना ,
    मेरे घर की दीवारे जड़वत नहीं हैं ,
    वो हिलती हैं लेकिन गिरती नहीं हैं ,
    आफताब जी .....बहुत ही पावन रचना है ....जहा प्यार की ताकता हो तो हिलती हुई दिवार भी जीवित हो उठी है ...........

    आपकी दोस्ती को सलाम

    ReplyDelete
  3. शाह जी नूं साड्डी वी बधाईयां पहुंचें

    पोस्‍टां लगावें अक टिप्‍पणियां पोस्‍टावें

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ दर्शन जी को उनके जन्म दिन के अवसर पर

    ReplyDelete
  5. दर्पण साह जी को जन्मदिन की ढेरो बधाई और शुभकामना ....

    ReplyDelete
  6. tumen likha hjai "तुम्हारा मित्र होना चाहता हूँ ... ?"

    ye kya baat hui?
    ho nahi kya mere mitra....
    Mere sarthi?
    abh bhi koi prmaan ki zaroorat hai 'taat' ?

    dost mujhe itna samman na do....

    yakeen mano main iske kadapi layak nahi hoon !!

    bus pyasar se 2 meethe baatein kar liya karo kaafi hain....

    aur haan tumhar sabhi tippaniya sahej ke ek jagah poast kar di hain.....
    ...itni acchi betarteeb nahi suha rahi thi !!

    .....ek baar phir mere priya dost ko dhanyavaad !!

    ReplyDelete
  7. दर्पण जी को जन्मदिन की ढेरो बधाई और शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया । शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  9. darpan bachwa ko janmdin ki bahut saari badhaiyan...
    aDaDi

    ReplyDelete
  10. दर्पण शाह को जन्मदिन मुबारक्!

    ReplyDelete
  11. दर्पण जी जन्मदिन मुबारक..!!

    ReplyDelete
  12. vaवह दोस्ती हो तो ऐसे भी और ऐसी भी। एक दूसरे से पूछ कर दोस्ती?? दर्पन को जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई और आपको भी मगर मिठाई हम आपसे ही खायेंगे।

    ReplyDelete
  13. DERI SE HI SAHI PAR ..दर्पण जी को ढेरो बधाई ......

    आपकी रचना भी कमल की है आफताब जी ...... सुन्दर और बहुत ही पावन लिखा है .......

    ReplyDelete
  14. kahan ho luptpray mitr?
    main palak pavdein bichakar intzaar kar raha hoon..

    ReplyDelete
  15. dosti salamat rahe sada ,darpan ji ko janmdin mubarak ho .tum jiyo hazaro saal .

    ReplyDelete
  16. मेरे घर की दीवारे हिलती हैं लेकिन ढहती नहीं ...............मोहोबत्त,मित्रता ...........कभी ढह भी नहीं सकती ................... ढह गयी तो कुछ था ही नहीं .............ढकोसला था .........और मित्र मैं ढकोसला ,नहीं तुम्हारा मित्र होना चाहता हूँ .................मुंशी प्रेम चन्द्र कह गए हैं - प्रेम गहरा होता हैं ,मित्रता और भी गहरी...in pankatio ko kyee baar padha or kitni der sochti rahi...isliye nahi ki kuch mushkil tha..dosti kitni gahri hoti hai...ye to pata tha aapki bate fir se yaad dila gyee...

    ReplyDelete
  17. darpan ji ko janam din mubark is sundar rachna ke saath .

    ReplyDelete
  18. इस अच्छी रचना के लिए
    आभार .................

    ReplyDelete
  19. सही कहा आपने
    सुन्दर रचना
    आभार

    ReplyDelete