Monday, 12 April, 2010

...............के आप मुझे कुबूल करों

अलाल्ह ! आज़ में फिर से अपनी ज़मीं पर खड़ा हूँ .....................
मेरे दोस्त मुझे युहीं संभाले रखना ....................... 
मृता जी मुझे माफ़ कर दो ...................बड़ा ही बदतमीज़ बच्चा हूँ तुम्हारा माँ ......................