Wednesday, 7 January, 2009



प्रेमांचल

"प्रहरी हु तेरे आँचल का माँ, पाषण में भी बसते हैं तेरे प्राण माँ "

No comments:

Post a Comment